Skip to content

तेरे दरबार की महिमा बड़ी निराली है भजन लिरिक्स

0 147

उमा लहरी भजन तेरे दरबार की महिमा बड़ी निराली है भजन लिरिक्स
Singer : Uma Lahri
तर्ज – तेरी गलियों का हूँ आशिक़।

तेरे दरबार की महिमा,
बड़ी निराली है,
तू तो दाती है दयालु है,
झंडे वाली है,
तेरे दरबार की महिमा,
बड़ी निराली है।।

तेरे चेहरे से दाती,
नूर नूर बरसे है,
रहमते तू लुटाती खूब,
तेरे दर से है,
तेरे होते रहेगी कैसे,
झोली खाली है,
तू तो दाती है दयालु है,
झंडे वाली है,
तेरें दरबार की महिमा,
बड़ी निराली है।।

तेरे दीदार को कई बार,
दिल मचलता है,
तेरा ही नाम जुबां से,
माँ निकलता है,
बैठे चरणों में तेरे आकर,
वो भाग्यशाली है,
तू तो दाती है दयालु है,
झंडे वाली है,
तेरें दरबार की महिमा,
बड़ी निराली है।।

ये तमन्ना है तुझसे दूर,
ना रहूं मैया,
तू भी जाने है तुझसे और,
कहूँ मैया,
‘लहरी’ नैनो में तेरी झांकी,
माँ सजा ली है,
तू तो दाती है दयालु है,
झंडे वाली है,
तेरें दरबार की महिमा,
बड़ी निराली है।।

तेरे दरबार की महिमा,
बड़ी निराली है,
तू तो दाती है दयालु है,
झंडे वाली है,
तेरे दरबार की महिमा,
बड़ी निराली है।।

1 thought on “तेरे दरबार की महिमा बड़ी निराली है भजन लिरिक्स”

  1. Pingback: Shree Durga Aarti Hindi  Lyrics - Fb-site.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.