Skip to content

तेरी गलियों का हूँ आशिक़ तू एक नगीना है भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

0 1497

तेरी गलियों का हूँ आशिक़,
तू एक नगीना है।

तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।

तेरे बिना एक पल मैं,
जी नही सकता,
ये जुदाई ये दर्द को मैं,
पी नही सकता,
तेरी गलियो मे सांवरे,
मरना जीना है
तेरी गलियो मे सांवरे,
मरना जीना है,

तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।

तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी गलियों का हूँ आशिक़
तू एक नगीना है।।

मेरे हमदम मेरे साथी,
मेरे साथी हमदम,
तेरी ख़ुशी मेरी ख़ुशी,
तेरा गम मेरा गम,
तू लहू है तू जान है,
तू ही पसीना है,
तू लहू है तू जान है,
तू ही पसीना है,

तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।

तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी गलियों का हूँ आशिक़
तू एक नगीना है।।

तेरे सिवा कोई दूसरा नही मेरा,
छोड़ू नही कसके पकड़ा ये दामन तेरा,
तूही मक्का तूही काबा तूही मदीना है,

तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।

तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।

चाहे दोजख चाहे जन्नत,
मे पहुचा दे मुझको,
या डूबा दे,
चाहे पार लगा दे मुझको,
तूही दरिया तूही साहिल,
तूही सफ़ीना है,

तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।
तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,
तेरी नज़रो से ये मुझे जाम पीना है,

तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।

दिया है दर्द जो तुमने,
तुम्ही दवा देना,
कहीं ना कहीं कभी ना कभी,
तेरा दर्शन होगा,
तेरी गलियों में सांवरे,
मरना जीना है,
तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।

तेरी गलियों में घूमना,
चाहता हूँ मै,
तेरी बाहों में झूमना,
चाहता हूँ मै,
तेरे चौखट को चूमना,
चाहता हूँ मै,
तेरी गलियों का हूँ आशिक,
तू एक नगीना है।।

1 thought on “तेरी गलियों का हूँ आशिक़ तू एक नगीना है भजन कृष्ण भजन लिरिक्स”

  1. Pingback: हम बाबा के लाडले हम पर किसका जोर कृष्ण भजन लिरिक्स - Fb-site.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.