Skip to content

तेरा चूहा करे कमाल गजानन मेरी कुटिया में लिरिक्स

  • by
0 255

गणेश भजन तेरा चूहा करे कमाल गजानन मेरी कुटिया में लिरिक्स

तेरा चूहा करे कमाल,
गजानन मेरी कुटिया में।।

रोटी खा गया चावल खा गया,
खा गया मुंग की दाल,
गजानन मेरी कुटिया में,
तेरा चुहा करे कमाल,
गजानन मेरी कुटिया में।।

हलवा खा गया पूरी खा गया,
खा गया सब पकवान,
गजानन मेरी कुटिया में,
तेरा चुहा करे कमाल,
गजानन मेरी कुटिया में।।

लड्डू खा गया पेड़े खा गया,
खा गया सब पकवान,
गजानन मेरी कुटिया में,
तेरा चुहा करे कमाल,
गजानन मेरी कुटिया में।।

धोती खा गया कुर्ता खा गया,
खा गया हरा रुमाल,
गजानन मेरी कुटिया में,
तेरा चुहा करे कमाल,
गजानन मेरी कुटिया में।।

गीता खा गया रामायण खा गया,
खा गया वेद पुराण,
गजानन मेरी कुटिया में,
तेरा चुहा करे कमाल,
गजानन मेरी कुटिया में।।

आओ गजानन मेरे घर आओ,
इस चूहे को संग ले जाओ,
ये तो फांद गया दीवार,
गजानन मेरी कुटिया में,
तेरा चुहा करे कमाल,
गजानन मेरी कुटिया में।।

तेरा चूहा करे कमाल,
गजानन मेरी कुटिया में।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.