Skip to content

ठुमक ठुमक कर घोड़ो आवे रामदेवजी भजन राजस्थानी भजन लिरिक्स

  • by
0 1219

ठुमक ठुमक कर घोड़ो आवे,
मोतिया जड़ी लगाम।

दोहा – दादुर मोर पपैया बोले,
कोयल गावे मल्हार,
मास भादवा मायने,
आवे भक्त घनेरा हजार।

ठुमक ठुमक कर घोड़ो आवे,
मोतिया जड़ी लगाम,
ऊपर असवार बैठा,
रुणिचे रा राम,
मारा मेणा दे रा लाल,
मारा मेणा दे रा लाल,
ओ मारा रुणीजे रा राम,
मारा रुणिजे रा श्याम।।

उमड़ घुमड़ कर खूब बरसे,
देखो इंदर राज,
रुणीजे अवतार बैठा,
द्वारिका रा नाथ,
मारा मेणा दे रा लाल,
मारा मेणा दे रा लाल,
ओ मारा रुणीजे रा राम,
मारा रुणिजे रा श्याम।।

नैना नैना टाबर चाले,
ले बाबा रो नाम,
धोरा री धरती में आया,
कलयुग रा ये राम,
मारा मेणा दे रा लाल,
मारा मेणा दे रा लाल,
ओ मारा रुणीजे रा राम,
मारा रुणिजे रा श्याम।।

रोक रोक कर खूब जिमावे,
राम रसोड़ा माए,
करता किरतार देखो,
भक्तों रा भगवान,
मारा मेणा दे रा लाल,
मारा मेणा दे रा लाल,
ओ मारा रुणीजे रा राम,
मारा रुणिजे रा श्याम।।

रात रात भर हाले जातरु,
बाबा पे विश्वास,
संग में रामापीर चाले,
नेतल रा भरतार,
मारा मेणा दे रा लाल,
मारा मेणा दे रा लाल,
ओ मारा रुणीजे रा राम,
मारा रुणिजे रा श्याम।।

घूम घूम कर मेला देखे,
भक्त रुणीजा माए,
नीचे सरवर बाबा ऊपर दरबार,
मारा मेणा दे रा लाल,
मारा मेणा दे रा लाल,
ओ मारा रुणीजे रा राम,
मारा रुणिजे रा श्याम।।

नाच नाच कर भजन सुनावे,
रुणीजा रे माए,
लोहार अनंत गावे केशव,
लिखतो जाएं,
मारा मेणा दे रा लाल,
मारा मेणा दे रा लाल,
ओ मारा रुणीजे रा राम,
मारा रुणिजे रा श्याम।।

ठुमक ठुमक कर घोड़ो आवें,
मोतिया जड़ी लगाम,
ऊपर असवार बैठा,
रुणिचे रा राम,
मारा मेणा दे रा लाल,
मारा मेणा दे रा लाल,
ओ मारा रुणीजे रा राम,
मारा रुणिजे रा श्याम।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.