Skip to content

झांकी रे झरोखे बैठी लाडली जनक की भजन राजस्थानी भजन लिरिक्स

  • by
0 1283

झांकी रे झरोखे बैठी,
लाडली जनक की।।

राजा अनेक आए,
एक से एक आए,
अब विचारे देखो,
धनुष तोड़न की,
झाकी रे झरोखे बैठी,
लाडली जनक की।।

चार जनी आगे पीछे,
पुष्प माला हाथ लेके,
बीच में समाए बैठे,
छोटे से रामजी,
झाकी रे झरोखे बैठी,
लाडली जनक की।।

सीता जी अर्ज हमारी,
जनक लली रहेगी ख्वारी,
अब छोड़ो ना पिताजी,
हठ धुनुष तोड़न की,
झाकी रे झरोखे बैठी,
लाडली जनक की।।

कहते हैं तुलसी दास,
राम और लक्ष्मण साथ,
तोड़ेंगे धनुष जैसे,
लकड़ी इंधन की,
झाकी रे झरोखे बैठी,
लाडली जनक की।।

झांकी रे झरोखे बैठी,
लाडली जनक की।।

More bhajans Songs Lyrics IN HINDI

  1. झांकी रे झरोखे बैठी लाडली जनक की भजन राजस्थानी भजन लिरिक्स
  2. यो तन जावसी रे मनवा चेत सके तो चेत राजस्थानी भजन लिरिक्स
  3. बालाजी थे तो पर्वत जाईज्यो सा आता तो लावज्यो संजीवन बूटी
  4. अमरलोक से चली भवानी माँ गोरख छलवा आई सा राजस्थानी भजन लिरिक्स
  5. मोमजी घोड़ला हालिया देसी भजन राजस्थानी भजन लिरिक्स
  6. सैया आरती उतारा अपना गुरा पिरा री राजस्थानी भजन लिरिक्स
  7. पिछम धरा में राजा रामदेव वे जोधा अजमल वाला भजन राजस्थानी भजन लिरिक्स
  8. रणुजे री जाईजे माँ म्हने पूंगल गढ परणाईए माँ
  9. पहला नाम तुम्हारा शिमरू रिद्धि शिद्धि दे दो गुणकारी
  10. top 10 rajasthani bhajan lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published.