Skip to content

जब दर्द हो भक्तो को मेरे साईं को भी होता भजन लिरिक्स

0 1596

भजन जब दर्द हो भक्तो को मेरे साईं को भी होता भजन लिरिक्स
Singer : Kamal Nayak
तर्ज – एक प्यार का नगमा है।

जब दर्द हो भक्तो को,
मेरे साईं को भी होता,
जब नींद ना आये हमें,
मेरा साईं भी ना सोता,
जब दर्द हो भक्तों को,
मेरे साईं को भी होता।।

एक साईं ही है जग में,
हर रिश्ते निभाता है,
हर मुश्किल में बाबा,
बस दौड़ा आता है,
कोई और नहीं दीखता,
साईं सामने जब होता,
जब नींद ना आये हमें,
मेरा साईं भी ना सोता,
जब दर्द हो भक्तों को,
मेरे साईं को भी होता।।

जो डोर बंधी उसको,
हम कैसे छुड़ाएंगे,
जो है उपकार किये,
हम कैसे भुलाएँगे,
मेरी मिट जाती हस्ती,
गर साईं नहीं होता,
जब नींद ना आये हमें,
मेरा साईं भी ना सोता,
जब दर्द हो भक्तों को,
मेरे साईं को भी होता।।

बाबा ने कृपा अपनी,
जब से बसराई है,
मेरी मुरझाई बगियाँ,
फिर से महकाई है,
हमें इतना दिया उसने,
कभी कम ही नहीं होता,
जब नींद ना आये हमें,
मेरा साईं भी ना सोता,
जब दर्द हो भक्तों को,
मेरे साईं को भी होता।।

जब दर्द हो भक्तो को,
मेरे साईं को भी होता,
जब नींद ना आये हमें,
मेरा साईं भी ना सोता,
जब दर्द हो भक्तों को,
मेरे साईं को भी होता।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.