Skip to content

जब तेरी डोली निकाली जायेगी भजन लिरिक्स

0 70

फिल्मी -तर्ज-भजन जब तेरी डोली निकाली जायेगी भजन लिरिक्स
-तर्ज-– दिल के अरमा आंसुओ में।

जब तेरी डोली निकाली जायेगी,
बिन मुहूरत के उठा ली जायेगी।।

उन हकीमों से कहो यों बोल कर,
करते थे दावा किताबें खोल कर,
यह दवा हरगिज न खाली जायेगी।।

जर सिकंदर का यही पे रह गया,
मरते दम लुक़मान भी यों कह गया,
यह घड़ी हरगिज न टाली जायेगी।।

क्यों गुलों पे हो रही बुलबुल निसार,
है खड़ा माली वो पीछे होशियार,
मारकर गोली गिरा ली जायेगी।।

होगा जब परलोक में तेरा हिसाब,
कैसे मुकरोगे बता दो ऐ जनाब,
जब बही तेरी निकाली जायेगी।।

जब तेरी डोली निकाली जायेगी,
बिन मुहूरत के उठा ली जायेगी।।

1 thought on “जब तेरी डोली निकाली जायेगी भजन लिरिक्स”

  1. Pingback: अनंत चतुर्दशी त्यौहार आया भजन लिरिक्स - Fb-site.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.