छोटा सा घर है गुरुवर मेरा भजन लिरिक्स

गुरुदेव भजन छोटा सा घर है गुरुवर मेरा भजन लिरिक्स
तर्ज – कोरा कागज़ था।

छोटा सा घर है,
गुरुवर मेरा,
हो न पाएगा,
स्वागत तेरा,
कैसे करूँ सेवा,
गुरूदेवा, मै न जानूँ,
छोटा सा घर हैं,
गुरुवर मेरा।।

टूटी है खटिया प्रभू,
कैसे बिठाऊँ,
कैसे मै घर तुम्हे,
अपने बुलाऊँ,
कैसे करुँ सेवा,
गुरूदेवा, मै न जानूँ
छोटा सा घर हैं,
गुरुवर मेरा,
हो न पाएगा,
स्वागत तेरा।।

सूखी है रोटी प्रभू,
कैसे खिलाऊँ,
आरती बिना दीपक,
कैसे सजाऊँ,
कैसे करुँ सेवा,
गुरूदेवा, मै न जानूँ
छोटा सा घर हैं,
गुरुवर मेरा,
हो न पाएगा,
स्वागत तेरा।।

दास गरीब़ हूँ मै,
क्या करूँ अर्पण,
चाह यही है कि,
मिल जाए दर्शन,
कैसे करुँ सेवा,
गुरूदेवा, मै न जानूँ
छोटा सा घर हैं,
गुरुवर मेरा,
हो न पाएगा,
स्वागत तेरा।।

छोटा सा घर है,
गुरुवर मेरा,
हो न पाएगा,
स्वागत तेरा,
कैसे करूँ सेवा,
गुरूदेवा, मै न जानूँ,
छोटा सा घर हैं,
गुरुवर मेरा।।

Leave a Reply