Skip to content

घनश्याम तेरो कारो री कैसे ब्याहूं राधे भजन राजस्थानी भजन लिरिक्स

0 1256

कन्हैया तेरो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे,
घनश्याम तेरो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे।।

तेरो कन्हैया ऐसो कारो,
जैसे निश अंधियारो,
मेरी राधे ऐसी गोरी,
नवलख तारा बिच,
चन्द्र को उजारो री,
कैसे ब्याहूं राधे,
कन्हैया तेरो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे।।

आप कारे संग वारे कारे,
ओढ़े कांवल कारो,
लूट लूट दही माखन खावे,
कैसे कर होगो मेरी,
राधे को गुजारो री,
कैसे ब्याहूं राधे,
कन्हैया तेरो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे।।

कारो कारो मत कर ग्वालिन,
कारो जग उजियारो,
नाग नाथ रेती बिच डारो,
मारी फूफकार ते,
बदन भयो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे,
कन्हैया तेरो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे।।

चन्द्रसखी भज बाल की शोभा,
सब सखीयन को प्यारो,
या कारे काना के ऊपर,
तेरी जैसी गोरी राधे,
लख लख वारुं रे,
कैसे ब्याहूं राधे,
कन्हैया तेरो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे।।

कन्हैया तेरो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे,
घनश्याम तेरो कारो री,
कैसे ब्याहूं राधे।।

1 thought on “घनश्याम तेरो कारो री कैसे ब्याहूं राधे भजन राजस्थानी भजन लिरिक्स”

  1. Pingback: आवोनी आवोनी खेतेश्वर दाता राजस्थानी भजन राजस्थानी भजन लिरिक्स - Fb-site.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.