गौरा रानी ने जपी ऐसी माला मिला है देखो डमरू वाला

शिवजी भजन गौरा रानी ने जपी ऐसी माला मिला है देखो डमरू वाला

गौरा रानी ने जपी ऐसी माला,
मिला है देखो डमरू वाला।।

गौरा से बोले शम्भू काहे पुकारा,
गौरा जी बोली चाहूँ साथ तुम्हारा,
तुम जैसा नाथ नहीं कोई निराला,
गोरा रानी ने जपी ऐसी माला,
मिला है देखो डमरू वाला।।

महलों की रानी तू है मैं हूँ एक जोगी,
मेरे संग गौरा तुम कैसे रहोगी,
शमशान पर्वत पे मैं रहने वाला,
गोरा रानी ने जपी ऐसी माला,
मिला है देखो डमरू वाला।।

जहाँ रहोगे भोले मैं भी रहूंगी,
दासी तुम्हारी बनके सेवा करुँगी,
गौरा ने शिवजी को डाली वर माला,
गोरा रानी ने जपी ऐसी माला,
मिला है देखो डमरू वाला।।

गौरा के ह्रदय में शिव जी बसे है,
जन्मो के बंधन में दोनों बंधे है,
वैरागी दोनों ने जग को संभाला,
गोरा रानी ने जपी ऐसी माला,
मिला है देखो डमरू वाला।।

गौरा रानी ने जपी ऐसी माला,
मिला है देखो डमरू वाला।।

Leave a Reply