गुरुदेव तुम्हारे चरणों में

मिलता है सच्चा सुख केवल, गुरुदेव तुम्हारे चरणों में।

श्वासों में तुम्हार नाम रहे, दिन रात सुबह और शाम रहे।

हर वक्त यही बस ध्यान रहे, गुरुदेव तुम्हारे चरणों में।।

चाहे संकट ने आ घेरा हो, चाहे चारों ओर अन्धेरा हो।

पर चित्त न डगमग मेरा हो, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।।

चाहे अग्नि में भी जलना हो, चाहे काँटों पर भी चलना हो।

चाहे छोड़े के देश निकाला हो, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।।

चाहे दुश्मन सब संसार को, चाहे मौत गले का हार बने।

चाहे विष ही निज आहार बने, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।।

Leave a Reply