खेले कुंज गलिन में श्याम होरी भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स

खेले कुंज गलिन में श्याम
होरी फाग मच्यो री भारी
फाग मच्यो भारीओ कान्हा
फाग मच्यो भारी
खेलें कुंज गलिन में श्याम
होरी फाग मच्यो री भारी।।

गोपियन संग में ग्वालन खेले
खेल रहे नर नारी
रंग अबीर उड़ावे कान्हा
भरके पिचकारी
खेलें कुंज गलिन में श्याम
होरी फाग मच्यो री भारी।।

लुक छिप कान्हा रंग लगावे
कहु नजर ना आये
कदे छिपे गोपिन के घर कदे
चढ़े कदम डारी
खेलें कुंज गलिन में श्याम
होरी फाग मच्यो री भारी।।

(छिप गया श्याम कौन नगरी में
आओ री ढूंढो सखियों
रे सारी नगरी में।)

सखियां लायी श्याम पकड़ के
रंग डारयो बृजनारी
तुलसी कर दिया लाल लाल जो
सूरत थी कारी
खेलें कुंज गलिन में श्याम
होरी फाग मच्यो री भारी।।

खेले कुंज गलिन में श्याम
होरी फाग मच्यो री भारी
फाग मच्यो भारीओ कान्हा
फाग मच्यो भारी
खेले कुंज गलिन में श्याम
होरी फाग मच्यो री भारी।।

  1. जिसको कहता है मोहन ये सारा जहाँ भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  2. श्याम तू क्या जाने खड़ा है कोने में एक दास भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  3. मुझे सोने नहीं देती श्याम तेरी यादे भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  4. हाथ जोड़ कर माँगता हूँ ऐसा हो जनम भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  5. कर भरोसा कर भरोसा तेरा बाबा तेरे सागे प्रेमी कर भरोसा
  6. एक तेरा भरोसा है एक तेरा सहारा है भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स
  7. वो मोरछड़ी अपनी तेरे सर पे घुमा देगा भजन श्याम बाबा भजन लिरिक्स

Leave a Reply