Skip to content

खुश हो जयागी देख जानकी गुँठी राम निशानी ने

  • by
0 1441

हरियाणवी भजन खुश हो जयागी देख जानकी गुँठी राम निशानी ने
गायक – नरेन्द्र कौशिक।

खुश हो जयागी देख जानकी,
गुँठी राम निशानी ने,
आऊँगा तन्नै लेवण खोदे,
कदे अपणी जिंदगानी ने,
खुश हो जयागी देख जानकी।।

दर दर फिरता तन्नै ढूंढता,
आज लगया मन्नै बैरा स,
पापी रावण ठा लाया,
जिका लंका के महां डेरा स,
तेरे की तरयां हाल मेरा स,
तेरे की तरयां हाल मेरा स,
कह दिए मेरी दीवानी ने,
आऊँगा तन्नै लेवण खोदे,
कदे अपणी जिंदगानी ने,
खुश हो जयागी देख जानकी।।

के त आजया बाज बदी तं ना,
कुल का नाश करावैगा,
लंका वासी सब मारे जां ना,
रोवणिया कोए पावैगा,
श्रीराम तन्नै ले ज्यावः,
श्रीराम तन्नै ले ज्यावः,
मार क उस हैवानी ने,
आऊँगा तन्नै लेवण खोदे,
कदे अपणी जिंदगानी ने,
खुश हो जयागी देख जानकी।।

घड़ा पाप का भरण ने होरया,
कुछ दिन पाछः फुटेगा,
राख भरोसा श्रीराम का ना,
तेरा भरोसा टुटेगा,
इब मर क पैंडा छुटेगा,
इब मर क पैंडा छुटैगा,
यो ज्ञान नहीं अज्ञानी ने,
आऊँगा तन्नै लेवण खोदे,
कदे अपणी जिंदगानी ने,
खुश हो जयागी देख जानकी।।

बुरे कर्म का बुरा नतीजा,
मार पिटाई गाल मिले,
सोच समझ ले कप्तान शर्मा ना,
ऐसा गाम समाल मिले,
धोखै की ना चाल चलै,
धोखै की ना चाल चलै,
मार क मन सैलानी ने,
आऊँगा तन्नै लेवण खोदे,
कदे अपणी जिंदगानी ने,
खुश हो जयागी देख जानकी।।

खुश हो जयागी देख जानकी,
गुँठी राम निशानी ने,
आऊँगा तन्नै लेवण खोदे,
कदे अपणी जिंदगानी ने,
खुश हो जयागी देख जानकी।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.