खाली कदे ना मोड़े बण आया जो सवाली लख्खा जी भजन लिरिक्स

दुर्गा माँ भजन खाली कदे ना मोड़े बण आया जो सवाली लख्खा जी भजन लिरिक्स
तर्ज – चूड़ी मजा ना देगी।

खाली कदे ना मोड़े,
बण आया जो सवाली,
मेरी चिंता पुरणी माँ,
मेरी चिंता पुरणी माँ,
बिगड़ी बनाने वाली,
खाली कदे ना मोड़े,
बण आया जो सवाली।।

मोके जाणे कष्ट सारे,
मेरे जाण तेरे सहारे,
जो मोह माया छड़ के,
आ जाण माँ दे द्वारे,
ओथे रहणा की है मेरा,
ओथे रहणा की है मेरा,
जिन्ने ज्योत मन जगा ली,
खाली कदे ना मोड़े,
बण आया जो सवाली।।

चढ़के चढ़ाई ओंदे,
चण्डे ने आ चढ़ौन्दे,
चरणा जी चित जो लेंदे,
ओ प्यार माँ दा पोंदे,
ओ प्यार माँ दा पोंदे,
बच्चिया दी कर दी राखी,
भगता दी कर दी राखी,
जीवे बूटेया दी माली,
खाली कदे ना मोडे,
बण आया जो सवाली।।

जपले तू नाम माँ दा,
कल्याण होवे तेरा,
आ माँ दे शरण ‘लखैया’,
रुळ आए ‘सरल’ बखेरा,
रुळ आए ‘सरल’ बखेरा,
कट जाणी रात गम दी,
कट जाणी रात गम दी,
आणि सुबह सुखाली,
खाली कदे ना मोड़े,
बण आया जो सवाली।।

खाली कदे ना मोडे,
बण आया जो सवाली,
मेरी चिंता पुरणी माँ,
मेरी चिंता पुरणी माँ,
बिगड़ी बनाने वाली,
खाली कदे ना मोडे,
बण आया जो सवाली।।

Leave a Reply