Skip to content

खाटु वाले का ये दरबार है लख्खा जी भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 2107

खाटु वाले का ये दरबार है,
मांग लो जिसको जो दरकार है।।

श्लोक – देवता मैंने जहाँ में,
श्याम सा देखा नहीं,
है बहुत दरबार लेकिन,
श्याम के जैसा नहीं,
है निराला द्वार इसका,
है निराला देवता,
मांग सकते हो तो मांगो,
झोलियाँ भर देता है।

खाटु वाले का ये दरबार है,
मांग लो जिसको जो दरकार है,
खाटु वाले का ये दरबार हैं,
मांग लो जिसको जो दरकार है।।

संकट मिटाते है सब प्राणी के,
आते है जो दर पे श्याम दानी के,
सबके लिए खुला भंडार है,
मांग लो जिसको जो दरकार है,
खाटु वाले का ये दरबार हैं,
मांग लो जिसको जो दरकार है।।

जिसने भी श्याम को पुकारा है,
उसको हरदम दिया सहारा है,
अपने भक्तो से उनको बड़ा प्यार,
मांग लो जिसको जो दरकार है,
खाटु वाले का ये दरबार हैं,
मांग लो जिसको जो दरकार है।।

शर्मा चल मन मोहन का नाम ले,
आकर चौखट को उनकी थाम ले,
चरणों में करके नमस्कार है,
मांग लो जिसको जो दरकार है,
खाटु वाले का ये दरबार हैं,
मांग लो जिसको जो दरकार है।।

खाटु वाले का ये दरबार है,
मांग लो जिसको जो दरकार है,
खाटु वाले का ये दरबार हैं,
मांग लो जिसको जो दरकार है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.