केसरी के लाडले सुनो हनुमान जी हमें है तुम्हारा आसरा

केसरी के लाडले,
सुनो हनुमान जी,
हमें है तुम्हारा आसरा।।

केसरी के लाडले,
प्यारे हनुमान जी,
केसरी के लाडले,
सुनो हनुमान जी,
हमें है तुम्हारा आसरा,
देखा है हमने,
सारा ही जहाँन ये,
तुमसे ना कोई दूसरा,
हो प्यारे हनुमान आके,
करो कल्याण,
केसरी के लाडले,
सुनो हनुमान जी,
हमें है तुम्हारा आसरा।।

सदा ठोकरे ही,
हमने है खाई,
हमें जिंदगी नहीं,
ये रास आई,
तुमने कई फ़क़ीर,
धनवान कर दिए,
भंडार कइयों के,
खुशियों से भर दिए,
और कहाँ जाएँ,
हाल ऐ दिल सुनाए,
सुने कोई ना तेरे सिवा,
केसरी के लाड़ले,
सुनो हनुमान जी,
हमें है तुम्हारा आसरा।।

प्रभु राम जी के,
काज थे सवारे,
क्यूँ भूल गए हो,
घर ये हमारे,
अँधेरे छा गए,
रूठी है रोशनी,
करना ना और देर,
है जान पर बनी,
केसरी के लाड़ले,
सुनो हनुमान जी,
हमें है तुम्हारा आसरा।।

हमने रो रो के,
तुमको पुकारा,
क्यों खयाल तुम्हे,
आया ना हमारा,
तेरे भरोसे पर ही,
हम तो है जी रहे,
गम का निवाला है,
आंसू है पि रहे,
पवन के दुलारे,
महावीर प्यारे,
देना दुःख सारे मिटा,
केसरी के लाड़ले,
सुनो हनुमान जी,
हमें है तुम्हारा आसरा।।

केसरी के लाड़ले,
सुनो हनुमान जी,
हमें है तुम्हारा आसरा,
देखा है हमने,
सारा ही जहाँन ये,
तुमसे ना कोई दूसरा,
हो प्यारे हनुमान आके,
करो कल्याण,
केसरी के लाड़ले,
सुनो हनुमान जी,
हमें है तुम्हारा आसरा।।

Leave a Reply