Skip to content

किसने सजाया तुमको इतना श्रृंगार करके भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 2507

किसने सजाया तुमको
इतना श्रृंगार करके
मैं लूट गई कन्हैया
दीदार यार करके
किसने सजाया तूमको
इतना श्रृंगार करके।।

हर फूल की कली है
रंगत भी मन चली है
गजरे की मस्त खुशबू
लगती बड़ी भली है
पहना दिया है सारे
गुलशन को हार करके
मैं लूट गई कन्हैया
दीदार यार करके
किसने सजाया तूमको
इतना श्रृंगार करके।।

क्या मुकुट की लटक है
मन मोहिनी मटक है
मुस्कान तेरी ज़ालिम
दिल में गई अटक है
नज़रो का तीर निकले
जिगर को पार करके
मैं लूट गई कन्हैया
दीदार यार करके
किसने सजाया तूमको
इतना श्रृंगार करके।।

कुछ पल निगाह अटकी
हटती नहीं हमारी
मदहोश कर दिया है
सुध खो गई बिहारी
रखना कदम कदम पे
मुझको संभाल करके
मैं लूट गई कन्हैया
दीदार यार करके
किसने सजाया तूमको
इतना श्रृंगार करके।।

किसने सजाया तुमको
इतना श्रृंगार करके
मैं लूट गई कन्हैया
दीदार यार करके
किसने सजाया तूमको
इतना श्रृंगार करके।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.