काला काला कहवे र गुजरी भजन लिरिक्स

हरियाणवी भजन काला काला कहवे र गुजरी भजन लिरिक्स
गायक – नरेंद्र कौशिक।

काला काला कहवे र गुजरी,
मत काले का जिक्र करै,
काले रंग पे मोरनी रुदन करै,
काला काला कहवे र गुजरी।।

मोटे मोटे नैन राधा के,
जिसमें सुरमा खुब सजै,
काले रंग पे मोरनी रुदन करै,
काला काला कहवे र गुजरी।।

लाम्बे लाम्बे केश राधा के,
जिसमें मांग सिंदूर भरै,
काले रंग पे मोरनी रुदन करै,
काला काला कहवे र गुजरी।।

लाम्बे लाम्बे पंख मोर के,
जिसके सिर पर मुकुट सजै,
काले रंग पे मोरनी रुदन करै,
काला काला कहवे र गुजरी।।

हरे हरे बासां की हरी मुरलिया,
जिसका खोया जगत फिरै,
काले रंग पे मोरनी रुदन करै,
काला काला कहवे र गुजरी।।

काला काला मेरा सावंरिया,
जिसकी सुरत या मन में बसे,
काले रंग पे मोरनी रुदन करै,
काला काला कहवे र गुजरी।।

काला काला कहवे र गुजरी,
मत काले का जिक्र करै,
काले रंग पे मोरनी रुदन करै,
काला काला कहवे र गुजरी।।

Leave a Reply