Skip to content

कलयुग में देव निराले बाबा ये खाटू वाले कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 1631

कलयुग में देव निराले,
बाबा ये खाटू वाले,
महिमा है इनकी अपरम्पार,
पूजे है सारा संसार,
प्रेमी ने जब भी पुकारा,
लीले चढ़ काम संवारा,
कहलाये जग में लखदातार,
पूजे है सारा संसार,
कलयुग में देव निरालें,
बाबा ये खाटू वाले।।

ऐसा ये देव दयालु,
जग में है चर्चा भारी,
अपने ही बने पराये,
साँची है इसकी यारी,
ढूंढ लो चाहे ज़माना,
ऐसा ना लखदातारी,
पांडव कुल के अवतारी,
शोभा है इनकी न्यारी,
सेठों में मोठे साहूकार,
पूजे है सारा संसार,
कलयुग में देव निरालें,
बाबा ये खाटू वाले।।

सुनवाई होती पल में,
जो भी आता है हार के,
मिल जाती खुशियां सारी,
मौसम पाता बहार के,
कट जाए विपदा सारी,
जो भी जाता निहार के,
सूरत है भोली भाली,
अँखियाँ है कारी कारी,
कहलाता है ये पालनहार,
पूजे है सारा संसार,
कलयुग में देव निरालें,
बाबा ये खाटू वाले।।

माथे पर हीरा चमके,
बागा केसरिया पहने,
लीले का है असवारी,
सांवरिया के क्या कहने,
खुश होता हँसता देख के,
प्रेमी है इसके गहने,
‘गौरव’ की झोली खाली,
झोली वो किस्मत वाली,
भरते खुद श्याम धणी सरकार,
पूजे है सारा संसार,
कलयुग में देव निरालें,
बाबा ये खाटू वाले।।

कलयुग में देव निराले,
बाबा ये खाटू वाले,
महिमा है इनकी अपरम्पार,
पूजे है सारा संसार,
प्रेमी ने जब भी पुकारा,
लीले चढ़ काम संवारा,
कहलाये जग में लखदातार,
पूजे है सारा संसार,
कलयुग में देव निरालें,
बाबा ये खाटू वाले।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.