कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं भजन लिरिक्स

कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं भजन लिरिक्स कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं भजन kabhi pyase ko pani pilaya nahi, mastar rana bhajan, hindi bhajan

कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२
कभी गिरते हुए को उठाया नहीं,
बाद आंसू बहाने से क्या फायदा।

में तो मंदिर गया पूजा आरती की ,
पूजा करते ही मन में खयाल आ गया।
कभी माँ बाप की सेवा की ही नहीं ,
बाद पूजा करवाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

में तो सत्संग गया गुरुवाणी सुनी ,
गुरुवाणी को सुन कर खयाल आ गया।
जन्म मानव का लेके दया ना करी ,
फिर मानव कहलाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

मेने दान किया मैंने जपतप किया ,
दान करते ही मन में खयाल आ गया।
कभी भूखे को भोजन खिलाया नहीं ,
दान लाखो का करने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

गंगा नहाने हरिद्वार कासी गया ,
गंगा नहाते ही खयाल आ गया।
तन को धोया मगर मन को धोया नहीं ,
फिर गंगा नहाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

मैंने वेद पढ़े मैंने शास्त्र पढ़े ,
शास्त्र पढ़ते ही मन में खयाल आ गया।
मैंने ज्ञान किसी को बाटा नहीं ,
फिर ज्ञानी कहलाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

माता पिता के चरणों में चारो धाम है,
आजा आजा यही मुक्ति का धाम है।
माता पिता की सेवा की ही नहीं ,
फिर तीरथ पे जाने से क्या फायदा।
कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं ,
बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।२

 kabhi pyase ko pani pilaya nahi lyrics in hindi , kabhi pyase ko pani pilaya nahi lyrics in English

भजन :- प्यासे को पानी पिलाया नहीं
गायक :- मास्टर राणा

This Post Has One Comment

Leave a Reply