Skip to content

इतना तो दो कन्हैया हक़ कम से कम भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 2288

इतना तो दो कन्हैया,
हक़ कम से कम,
कह सके ज़माने को,
तुम्हारे है हम,
इतना तो दो कन्हैंया,
हक़ कम से कम।।

ये माना की मीरा सा,
ना प्रेम अटल है,
ना अर्जुन विदुर सा,
भरोसा प्रबल है,
ना मित्र सुदामा के,
ना मित्र सुदामा के,
जैसे है करम,
इतना तो दो कन्हैंया,
हक़ कम से कम।।

प्रह्लाद ध्रुव जैसी,
ना मासूम भक्ति,
नरसी ना सुर जैसी,
वो भाव में शक्ति,
ना रसखान जैसा,
ना रसखान जैसा,
हमारा जनम,
इतना तो दो कन्हैंया,
हक़ कम से कम।।

पड़ा वक़्त गज पे तो,
नंगे पाँव आये,
पुकारा जो द्रौपदी ने,
साड़ी बढ़ दिखाए,
निर्बल हूँ मैं बाबा,
निर्बल हूँ मैं श्याम,
तुझसे है दम,
इतना तो दो कन्हैंया,
हक़ कम से कम।।

ना पारस ना सोना,
ना हूँ कोई हीरा,
मैं गोपाली पागल,
ना संत कबीरा,
बने दास सोनू,
बने दास सोनू,
तेरा हर जनम,
इतना तो दो कन्हैंया,
हक़ कम से कम।।

इतना तो दो कन्हैया,
हक़ कम से कम,
कह सके ज़माने को,
तुम्हारे है हम,
इतना तो दो कन्हैंया,
हक़ कम से कम।।

More bhajans Songs Lyrics IN HINDI

कृष्ण भजन लिरिक्स Krishna Bhajan Lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published.