Skip to content

आज म्हारे आंगनिया में गौरी पुत्र आया जी लिरिक्स

0 139

गणेश भजन आज म्हारे आंगनिया में गौरी पुत्र आया जी लिरिक्स

आज म्हारे आंगनिया में,
गौरी पुत्र आया जी,
गौरी पुत्र आया जी,
भक्ता रे मन रे भाया जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

कमर तागड़ी पग पैजनिया,
हाथ झझरियों लाया जी,
नैना में काजलियो थारे,
माथे चांद मंडाया जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

पहर जरी को झगलो चोटी,
रेशम फूल गुथाया जी,
ठुमक ठुमक पगां धरे हैं,
गणपति बोले तुतलाया जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

चौकी पर सिंहासन जहां पर,
सुंदर वस्त्र बिछाया जी,
चरण धोए चरणामृत लीनो,
शिवनंदन ने बिठाया जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

अक्षत चंदन धूप दीप कर,
पुष्प हार पेराया जी,
भोग लगावन एक थाल में,
लाडूड़ा मंगवाया जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

लाडू देख विनायक जी को,
मनङो घणो हरषायो जी,
उठा उठा कर खावे गणपत,
रुचि रुचि भोग लगावे जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

देख छटा श्री गणपति जी की,
मन मारो ललचाए जी,
नजर न लगे लंबोदर के,
राई लूण करया जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

विघ्न निवारण मंगल कारण,
रिद्धि सिद्धि संग में लाया जी,
मित्र मंडल श्री गणपत जी का,
प्रेम सूं लाड लडाया जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

आज म्हारे आंगनिया में,
गौरी पुत्र आया जी,
गौरी पुत्र आया जी,
भक्ता रे मन रे भाया जी,
आज म्हारे आंगणिया में,
गौरी पुत्र आया जी।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.