Skip to content

अर्जी सुनले लखदातार तेरा गुण गाये संसार भजन कृष्ण भजन लिरिक्स

  • by
0 2529

अर्जी सुनले लखदातार
तेरा गुण गाये संसार।

दोहा – फिरा दर दर भटकता मैं
नही तुमसा नज़र आया
देखकर साँवली सूरत
भरे दरबार में आया।

अर्जी सुनले लखदातार
तेरा गुण गाये संसार
मेरी नैया किनारे
लगा दे सरकार
अरजी सुनले लखदातार।।

कहते दयालु तुमको
दानी मतवाला
खुलता है दर पे तेरे
किस्मत का ताला
रौनक रहती तेरे द्वार
होती पतझड़ में बहार
मेरी नैया किनारे
लगा दे सरकार
अरजी सुनले लखदातार।।

हो जाये मुझ पे मालिक
दया जो तुम्हारी
बन जाये बिगड़ी मेरी
साँवरे मुरारी
करता तेरी जय जयकार
आओ लेकर के पतवार
मेरी नैया किनारे
लगा दे सरकार
अरजी सुनले लखदातार।।

दाता दयालु तुझसा
कहाँ और पाएं
दिल के फफोले श्याम
किसको दिखाए
विनती करता बारम्बार
सुनलो सावर की पुकार
मेरी नैया किनारे
लगा दे सरकार
अरजी सुनले लखदातार।।

अर्जी सुन ले लखदातार
तेरा गुण गाये संसार
मेरी नैया किनारे
लगा दे सरकार
अरजी सुनले लखदातार।।

  1. फागण का महीना चलो बाबा के द्वार भजन कृष्ण भजन लिरिक्स
  2. कोई सुबह ना हो ऐसी कोई ऐसी शाम ना हो भजन कृष्ण भजन लिरिक्स
  3. दिन जिंदगी के चार चाहे कम देना भजन कृष्ण भजन लिरिक्स
  4. फागण मेला आया है उड़े रंग गुलाल भजन कृष्ण भजन लिरिक्स
  5. हारे हुए है दर आए है करो अब मेहर की नज़र कृष्ण भजन लिरिक्स
  6. म्हे भी आवाँगा म्हाने बुलाल्यो थे सरकार भजन कृष्ण भजन लिरिक्स
  7. गाओ गाओ री बधाई उमंग भर के भजन कृष्ण भजन लिरिक्स
  8. कृपा बरस रही है खाटू के दर पे आजा भजन कृष्ण भजन लिरिक्स
  9. श्याम माखन चुराते चुराते अब तो दिल भी चुराने लगे है कृष्ण भजन लिरिक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.